” लाचारी “

चहुं ओर हाहाकार देख

मस्तिष्क में विचार ही नहीं आते ,

कुछ पंक्तियां लिखने को

उठे हाथ हैं कंपकंपाते ,

ओक्सीजन और हस्पताल की चीख-पुकार से ,

अंदर ही अंदर सब सहम जाते

डाक्टर की लाचारी देख

दिल के सैंकड़ों टुकड़े हो जाते,

बस…..

उम्मीद से भरी आंखें देख

हौंसले का हाथ ही बढ़ा पाते ,

शून्य में तकते नयन

अविरल अश्रु हैं बहाते ।।

Published by Beingcreative

A homemaker exploring herself!!

13 thoughts on “” लाचारी “

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: