” मतलब की दोस्ती “

कुछ सालों पहले क्या कभी हमने ” मतलब की दोस्ती ” जैसा शब्द सुना था ? यह आधुनिक समाज की देन है । लोग हर रिश्ते के मूल आधार को पीछे छोड़ते आ रहे हैं फिर चाहे वह कोई पारिवारिक रिश्ता हो या दोस्ती का । वह जमाना और था जब ” सुदामा और श्रीकृष्णContinue reading “” मतलब की दोस्ती “”

” LUDO “

Ludo happened to bean amazing game in lockdown ,All over the gamesIt wore the winning crown .Young generation thoughtThat it’s their cup of tea ,But they don’t knowIt is everybody’s childhood memory .It was designed in IndiaIn 6th century ,But then the name was Pachisi .People of each peer groupRevel to play it ,And itContinue reading “” LUDO “”

” आज का बच्चा “

दिमाग ने किया एक सवाल ,क्या है बच्चा ?हमने कहा ,जिसका मन है केवल सच्चा,अनुभवों में जो है कच्चा ,कभी ना दे जो किसी को गच्चा ,शायद यही है एक बच्चा !हां यही है नेक बच्चा । पर…… क्या हम नहीं खेल रहे हैंबच्चों के आने वाले कल से ,भोले – भाले बचपन को ,तहस-नहसContinue reading “” आज का बच्चा “”

” दिवाली “

” दिवाली आती है , मन में उत्साह जगाती है “ यह एक ऐसा वाक्य है जो हम बचपन से सुनते आ रहे हैं परंतु क्या आज की युवा पीढ़ी दिवाली के लिए उतनी उत्साहित होती है जितनी हम हुआ करते थे ? क्या आज की युवा पीढ़ी दिवाली आने से पहले उसकी तैयारियों मेंContinue reading “” दिवाली “”

‌‌ ” सपने “

क्या आप सपनों को सुन पाते हैं ?क्या वह आपको कुछ कह पाते हैं ?जाने मेरे सपनों से क्या नाते हैं ,वो मुझे बहुत कुछ कह जाते हैं ,होने वाला अनदेखा बता जाते हैं ,आने वाली परेशानी से चेता जाते हैं ,आने वाली खुशियों की झलक दिखला जाते हैं ,कहते हैं सपने सबको आते हैंContinue reading “‌‌ ” सपने “”

” Independent Women “

Today we Indian ladies are celebrating womenhood in form of Karwachauth and no other day would be more appropriate to give my opinion on the topic “Independent Women “. Women these days are progressing and trying to build a world that is soothing for their soul.They are excelling in almost every sector.They have grown toContinue reading “” Independent Women “”

” त्योहार “

त्योहार लाते हैं जीवन में बहार ,अपनों से मिलने के मौके बेशुमार ,दिल खोल कर जताते हैं सब अपना प्यार ,पर हाय यह महामारी की मार ,२०२० में पहले से रहे नहीं त्योहार । लोहड़ी तक तो सब ठीक था ,फिर हुआ करोना का वार ,टूट के बिखर गया सारा संसार ,होली गई बेरंगी ,Continue reading “” त्योहार “”

Create your website with WordPress.com
Get started